रामायण की कहानी: लक्ष्मण जी नहीं सोए 14 साल

रामायण की कहानियाँ भारतीय संस्कृति में गहराई से जुड़ी हुई हैं और हमें जीवन के महत्वपूर्ण मूल्य सिखाती हैं। रामायण की ऐसी ही एक कहानी लक्ष्मण और उर्मिला के त्याग और निष्ठा को दर्शाती है।

रामायण की कहानी: लक्ष्मण जी नहीं सोए 14 साल

जब राजा दशरथ अपने ज्येष्ठ पुत्र राम को राजगद्दी सौंपने वाले थे, तभी उनकी दूसरी पत्नी कैकेयी की दासी मंथरा ने उसे भड़काया। मंथरा ने कहा कि राजा दशरथ के बाद तुम्हारे बेटे भरत को राजा बनना चाहिए। इस विचार ने कैकेयी को विचलित कर दिया और उसने राजा दशरथ से दो वरदान मांगे। पहला, भरत को राजगद्दी मिले और दूसरा, राम को 14 वर्षों के लिए वनवास भेजा जाए। राजा दशरथ ने भारी मन से यह वरदान पूरा किया।

राम वनवास के लिए अयोध्या से निकले तो उनके अनुज लक्ष्मण भी उनके साथ जाने के लिए अड़े। लक्ष्मण की पत्नी उर्मिला भी साथ जाने की इच्छा प्रकट करती है, लेकिन लक्ष्मण उसे समझाते हैं कि उनका कर्तव्य राम और सीता की सेवा करना है, और अगर उर्मिला उनके साथ जाएगी तो वह सही से अपनी सेवा नहीं कर पाएंगे। उर्मिला लक्ष्मण की बात समझकर महल में ही रुक जाती है।

वन में पहुँचकर, लक्ष्मण ने राम और सीता के लिए एक कुटिया बनाई और वे पहरेदारी करने लगे। वनवास के पहले दिन, लक्ष्मण के सामने निद्रा देवी प्रकट हुईं। लक्ष्मण ने उनसे वरदान मांगा कि वे 14 साल तक बिना नींद के रह सकें। निद्रा देवी ने कहा कि लक्ष्मण के हिस्से की नींद किसी और को लेनी होगी। लक्ष्मण ने अपने हिस्से की नींद उर्मिला को देने का प्रस्ताव रखा। इस कारण, लक्ष्मण 14 वर्षों तक जागते रहे और उर्मिला गहरी नींद में रही।

14 साल बाद, राम, सीता और लक्ष्मण जब अयोध्या लौटे, तो रामचंद्र जी के राजतिलक समारोह में उर्मिला भी नींद की अवस्था में उपस्थित थीं। यह देखकर लक्ष्मण को हंसी आ गई। जब उनसे हंसी का कारण पूछा गया, तो उन्होंने निद्रा देवी के वरदान के बारे में सब कुछ बताया। लक्ष्मण ने कहा कि जब वे उबासी लेंगे, तब उर्मिला की नींद खुलेगी। लक्ष्मण की बात सुनकर सभा में सभी लोग हंस पड़े। सभी को हंसते देख उर्मिला लज्जावश समारोह से उठकर बाहर चली जाती हैं।

रामायण की कहानी: लक्ष्मण जी नहीं सोए 14 साल कहानी से सीख:

त्याग और निष्ठा किसी भी रिश्ते की नींव होती है। सही निर्णय और कर्तव्यनिष्ठा हमें जीवन में सफलता और सम्मान दिलाते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQs):

  1. रामचंद्र जी को वनवास क्यों जाना पड़ा?
  • कैकेयी ने राजा दशरथ से दो वरदान मांगे थे – भरत को राजगद्दी मिले और राम को 14 साल का वनवास।
  1. लक्ष्मण ने उर्मिला को वनवास में क्यों नहीं ले जाने दिया?
  • लक्ष्मण ने उर्मिला को इसलिए नहीं ले जाने दिया क्योंकि उनका कर्तव्य राम और सीता की सेवा करना था और उर्मिला के साथ रहने पर वे ठीक से सेवा नहीं कर पाते।
  1. लक्ष्मण 14 साल तक कैसे जागते रहे?
  • लक्ष्मण ने निद्रा देवी से वरदान मांगा था कि वे 14 साल तक जाग सकें और अपने हिस्से की नींद उर्मिला को देने का प्रस्ताव रखा।
  1. उर्मिला 14 साल तक क्यों सोती रहीं?
  • लक्ष्मण ने निद्रा देवी से अपने हिस्से की नींद उर्मिला को देने का प्रस्ताव रखा था, जिससे उर्मिला 14 साल तक सोती रहीं।
  1. लक्ष्मण को राजतिलक समारोह में हंसी क्यों आई?
  • लक्ष्मण को हंसी आई क्योंकि उन्होंने निद्रा देवी के वरदान के बारे में बताया और कहा कि जब वे उबासी लेंगे, तब उर्मिला की नींद खुलेगी, जिसे सुनकर सभी हंस पड़े।

Leave a Comment