कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं Kabhi Pyase Ko Pani Pilaaya Nahin Lyrics

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं Kabhi Pyase Ko Pani Pilaaya Nahin Lyrics

कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं Hindi Lyrics


कभी प्यासे को पानी पिलाया नहीं, बाद अमृत पिलाने से क्या फ़ायदा
कभी गिरते हुए को उठाया नहीं, बाद आंसू बहाने से क्या फ़ायदा

मैं तो मंदिर गया, पूजा आरती की, पूजा करते हुए यह ख़याल आ गया
कभी माँ बाप की सेवा की ही नहीं, सिर्फ पूजा के करने से क्या फ़ायदा

मैं तो सतसंग गया, गुरु वाणी सुनी, गुरु वाणी को सुन कर ख्याल आ गया
जनम मानव का ले के दया ना करी, फिर मानव कहलाने से क्या फ़ायदा

मैंने दान किया मैंने जप तप किया दान करते हुए यह ख्याल आ गया ।
कभी भूखे को भोजन खिलाया नहीं दान लाखों का करने से क्या फ़ायदा

गंगा नहाने हरिद्वार काशी गया, गंगा नहाते ही मन में  ख्याल आ गया
तन को धोया मनर मन को धोया नहीं फिर गंगा नहाने से क्या फ़ायदा

मैंने वेद पढ़े मैंने शास्त्र पढ़े, शास्त्र पढते हुए यह ख़याल आ गया
मैंने ज्ञान किसी को बांटा नहीं, फिर ग्यानी कहलाने से क्या फ़ायदा

माँ पिता के ही चरणों में ही चारो धाम है, आजा आजा यही मुक्ति का धाम है
पिता माता की सेवा की ही नहीं फिर तीर्थों में जाने का क्या फ़ायदा


Kabhi Pyase Ko Pani Pilaaya Nahin Lyrics


kabhee pyaase ko paanee pilaaya nahin, baad amrt pilaane se kya faayada
kabhee girate hue ko uthaaya nahin, baad aansoo bahaane se kya faayada

main to mandir gaya, pooja aaratee kee, pooja karate hue yah khayaal aa gaya
kabhee maan baap kee seva kee hee nahin, sirph pooja ke karane se kya faayada

main to satasang gaya, guru vaanee sunee, guru vaanee ko sun kar khyaal aa gaya
janam maanav ka le ke daya na karee, phir maanav kahalaane se kya faayada

mainne daan kiya mainne jap tap kiya daan karate hue yah khyaal aa gaya .
kabhee bhookhe ko bhojan khilaaya nahin daan laakhon ka karane se kya faayada

ganga nahaane haridvaar kaashee gaya, ganga nahaate hee man mein  khyaal aa gaya
tan ko dhoya manar man ko dhoya nahin phir ganga nahaane se kya faayada

mainne ved padhe mainne shaastr padhe, shaastr padhate hue yah khayaal aa gaya
mainne gyaan kisee ko baanta nahin, phir gyaanee kahalaane se kya faayada

maan pita ke hee charanon mein hee chaaro dhaam hai, aaja aaja yahee mukti ka dhaam hai
pita maata kee seva kee hee nahin phir teerthon mein jaane ka kya faayada

Post a Comment

0 Comments