खाटू वाले श्याम प्रभु हमें दर्शन तो दिखला {Khaatoo Waale Shyaam Prabhu Hame Darshan To Dikhala}

खाटू वाले श्याम प्रभु हमें दर्शन तो दिखला {Khaatoo Waale Shyaam Prabhu Hame Darshan To Dikhala} तर्ज – उड़ जा काले कावा। गायक और लेखक - पंडित ग्यारसी लाल शर्मा {Singer & Writer – Pandit Gyarsi Lal Sharma}



खाटू वाले श्याम प्रभु हमें दर्शन तो दिखला {Khaatoo Waale Shyaam Prabhu Hame Darshan To Dikhala


खाटू वाले श्याम प्रभु
हमें दर्शन तो दिखला
तेरे भक्त पुकारे द्वार खड़े
हमें ऐसे ना तरसा
बड़ी दूर से चलकर बाबा
द्वार तिहारे आए
दर्शन बिन वापस ना जाऊँ
दर्शन बिन वापस ना जाऊँ
प्राण भले ही जाये
आजा रे मेरे सांवरिया
आजा रे मेरे सांवरियां

महिमा बहुत सुनी है तेरी
हे जग के दाता
मेरे भी दुःख दूर करो ना
हे लख के दाता
धन दौलत नहीं मांग रहा मैं
मांगू दर्शन तेरा
मुझे भरोसा तेरा है बाबा
मुझे भरोसा तेरा है
ना तोड़ भरोसा मेरा
आजा रे मेरे सांवरिया
आजा रे मेरे सांवरियां

द्रुपदसुता की लाज बचाई
भरी सभा माहि
और करमा को खीचड़ खायो
आ कलयुग माहि
नरसी की सुन टेर मायरो
नानी को भर आयो
धन्ना भगत की करी सुरक्षा
धन्ना भगत की करी सुरक्षा
मीरा दर्शन पायो
आजा रे मेरे सांवरिया
आजा रे मेरे सांवरियां

सुनी अरज भोला भगता की
श्याम चले आए
नैनो में बहे नीर श्याम ने
दर्शन दिखलाये
‘ग्यारसी लाल’ श्याम दर्शन पा
फुला नहीं समाया
भव सागर से तर जाते वे
भव सागर से तर जाते
जिन्हे श्याम नाम मन भाया
आजा रे मेरे सांवरिया
आजा रे मेरे सांवरियां

खाटू वाले श्याम प्रभु
हमें दर्शन तो दिखला
तेरे भक्त पुकारे द्वार खड़े
हमें ऐसे ना तरसा
बड़ी दूर से चलकर बाबा
द्वार तिहारे आए
दर्शन बिन वापस ना जाऊँ
दर्शन बिन वापस ना जाऊँ
प्राण भले ही जाये
आजा रे मेरे सांवरिया
आजा रे मेरे सांवरियां

Post a Comment

0 Comments