बाद मुद्दत के यह घडी आई / Baad Muddat Ke Ye Ghadi Payee

बाद मुद्दत के यह घडी आई गाने को सुमन कल्याणपूर - रफी ने गाया है और राजेन्द्र कृष्ण ने लिखा है जबकि मुजिक मदन मोहनने दिया है इस पोस्ट में हम आपके साथ Baad Muddat Ke Ye Ghadi Payee गाने का Hindi song lyrics, Free Song Lyrics, Latest Hindi Songs Lyrics और वीडियो शेयर कर रहे है

बाद मुद्दत के यह घडी आई Hindi Lyrics



बाद मुद्दत के यह घडी आई
आप आये तो ज़िन्दगी आई
इश्क मर-मर के कामयाब हुआ
आज एक ज़र्रा आफताब हुआ

शुक्रिया ऐ हुजुर आने का
वक़्त जागा गरीबखाने का
एक ज़माने के बाद दीद हुई
ईद से पहले मेरी ईद हुई

ईद का चाँद आज देखा है
ईद का क्यों ना ऐतबार आए
हाथ उठाकर दुआ यह करता हूँ
ईद फिर ऐसी बार-बार आए

दिन ज़माने का, रात अपनी है
इस घडी कायनात अपनी है
इश्क पर हुस्न की इनायत है
मेरे पहलु में मेरी जन्नत है

फासले वक़्त ने मिटा ही दिए
दिल तड़पते हुये मिला ही दिए
काश इस वक़्त मौत आ जाए
जिंदगानी पे आके छा जाए

Baad Muddat Ke Ye Ghadi Aayee English Lyrics



Baad muddat ke yah ghadi ai
Ap aye to jindagi ai
Ishk mar-mar ke kaamayaab hua
Aj ek jrra afataab hua

Shukriya ai hujur ane ka
Wakt jaaga garibakhaane ka
Ek jmaane ke baad did hui
Id se pahale meri id hui

Id ka chaand aj dekha hai
Id ka kyon na aitabaar ae
Haath uthhaakar dua yah karata hun
Id fir aisi baar-baar ae

Din jmaane ka, raat apani hai
Is ghadi kaayanaat apani hai
Ishk par husn ki inaayat hai
Mere pahalu men meri jannat hai

Faasale wakt ne mita hi die
Dil tadpate huye mila hi die
Kaash is wakt maut a jaae
Jindagaani pe ake chha jaae 

Post a Comment

0 Comments